एन ए आई, ब्यूरो।

ऊना, जिला ऊना के एक गांव में नाबालिग बच्ची से छेड़छाड़ और उसके बाद आरोपी की पिटाई और पिटाई को लेकर एससी एसटी एक्ट के तहत केस दर्ज किए जाने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। आज जिला मुख्यालय के एमसी पार्क में सवर्ण समाज के सैकड़ों कार्यकर्ता एकत्रित हुए और छेड़छाड़ के आरोपी द्वारा दर्ज कराए गए एससी एसटी एक्ट के केस के खिलाफ आवाज बुलंद की। इतना ही नहीं क्षत्रिय देवभुमि संगठन के बड़े नेता रुमित सिंह ठाकुर और मदन ठाकुर भी इस प्रदर्शन में विशेष रूप से शामिल होने के लिए ऊना पहुंचे।

एमसी पार्क में जुटे स्वर्ण समाज के लोगों ने डीसी ऑफिस कार्यालय तक रैली निकालकर जिला प्रशासन के माध्यम से प्रदेश सरकार को ज्ञापन भेजकर छेड़छाड़ मामले के बाद दायर किए गए एससी एसटी एक्ट के मामले को रद्द करने की मांग उठाई, इतना ही नहीं उन्होंने केंद्र सरकार से इस एक्ट को ही निरस्त करने के लिए भी आवाज उठाई है।

छात्रा के साथ छेड़छाड़ और उसके बाद मामले के नाटकीय घटनाक्रम में पीड़िता के ही परिजनों के खिलाफ एससी एसटी एक्ट के केस दर्ज होने का मामला लगातार तूल पकड़ता जा रहा है। बुधवार को क्षत्रिय देवभूमि संगठन के बड़े नेताओं रुमित सिंह ठाकुर और मदन ठाकुर ने भी स्वर्ण समाज के लोगों द्वारा एससी एसटी एक्ट के खिलाफ निकाली गई रैली में विशेष रूप से भाग लिया।

इस मौके पर रुमित ठाकुर ने कहा कि जनवरी 2021 में इसी एससी एसटी एक्ट के खिलाफ हमने आवाज उठाई थी। उन्होंने कहा कि इस एक्ट का सबसे ज्यादा दुरुपयोग किया जाता है जिसके चलते स्वर्ण समाज के दर्जनों लोग आज झूठे केसों में फंसे हुए हैं। उन्होंने कहा कि लड़के ने पहले लड़की से छेड़छाड़ की और जब परिजनों इसकी पिटाई की तो उस लड़के ने परिजनों के खिलाफ एससी एसटी एक्ट में केस दर्ज करवा दिया।

उन्होंने कहा कि पुलिस को इस मामले को तुरंत रद्द करना चाहिए और पीड़ित लड़की को न्याय दिलाना चाहिए।

 

 

वहीँ ब्राह्मण कल्याण सभा के युवा विंग के जिला अध्यक्ष चंदन शर्मा ने भी इस मामले को लेकर कड़े तेवर दिखाए हैं। उन्होंने कहा कि हरोली उपमंडल के एक गांव में हुई यह घटना स्वर्ण समाज के खिलाफ सोची समझी साजिश है।

उन्होंने पुलिस पर भी सवाल उठाते हुए कहा कि जब एक नाबालिग के साथ छेड़छाड़ का मामला हुआ है तो कैसे पुलिस की मौजूदगी में समझौता करवा दिया गया। चंदन शर्मा ने कहा कि इस प्रकार के मामलों में पीड़िता के परिजन भी किसी भी प्रकार से समझौता नहीं करवा सकते।

उन्होंने मांग की है कि छात्रा से छेड़छाड़ मामले के बाद उसी के परिवार के और अन्य लोगों के खिलाफ दर्ज किए गए एससी एसटी के केस को तुरंत प्रभाव से खारिज किया जाए। वहीं छात्रा से अश्लील हरकतें करने के आरोपी को तुरंत गिरफ्तार कर आगामी कार्रवाई अमल में लाई जाए।

 

Share:

editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *