एन ए आई, ब्यूरो।

शिमला, हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला को 24 घंटे पेयजल सुविधा देने के प्रस्तावित सतलुज पेयजल परियोजना के तहत बिछने वाले पाइप 750 एमएम (पाइप का डाया) होंगे। यह अब तक प्रदेश में बिछे पाइपों में सबसे बड़े हैं। पेयजल कंपनी ने इस प्रोजेक्ट के तहत शकरोड़ी से शिमला तक बिछने वाली पाइपों की जांच पूरी कर खरीद को मंजूरी दे दी है। प्रदेश में पहली बार इतनी बड़े पेयजल पाइप सप्लाई के लिए इस्तेमाल होंगे। इससे पहले 450 एमएम की सबसे बड़ी पाइप लाइन बिछी है। यह भी गुम्मा परियोजना के तहत शिमला में ही बिछाई गई है।

अब 750 एमएम के पाइप बिछाए जाएंगे। एक पाइप की लंबाई 6 मीटर होगी। शकरोड़ी से शिमला तक कुल 22.3 किलोमीटर लंबी पेयजल लाइन बिछाई जाएगी। कंपनी के अनुसार यह पाइपें गुजरात से खरीदी जाएंगी। कंपनी की एक टीम ने एजीएम सुमित सूद की अगुवाई में हाल ही में गुजरात जाकर इनकी जांच कर ली है। जांच सही होने के बाद इसकी खरीद को मंजूरी दी है। कंपनी का दावा है कि दो महीने के भीतर इसकी सप्लाई मिलेगी जिसके बाद पाइप लाइन बिछाने का काम शुरू कर दिया जाएगा।

इतनी बड़ी पाइप लाइन बिछाने के लिए मशीनरी का इस्तेमाल किया जाएगा। विश्वबैंक प्रोजेक्ट के तहत सतलुज नदी से शिमला शहर के लिए पानी की सप्लाई होनी है। शकरोड़ी के पास पंपिंग स्टेशन बनाकर यह पानी शिमला पहुंचाया जाएगा। अभी 42 एमएलडी पानी रोजाना शिमला शहर को पहुंचाने की योजना है। साल 2035 के बाद इसकी क्षमता 66 एमएलडी हो जाएगी। सतलुज का पानी शिमला पहुंचने पर यहां 24 घंटे पानी लोगों को मिलने लगेगा।

Share:

editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *