एन ए आई, ब्यूरो।

शिमला, उपन्यास ‘टोंब ऑफ सैंड’ के लिए बुकर पुरस्कार से सम्मानित जानी-मानी लेखिका गीतांजलि श्री ‘भारतीय भाषाओं में महिला लेखन’ पर अपने विचार रखेंगी। राजधानी शिमला में 16 जून से तीन दिवसीय अंतरराष्ट्रीय साहित्य उत्सव ‘उन्मेष’ शुरू होने जा रहा है। गीतांजलि श्री 18 जून को वायसरॉय सभागार में अभिव्यक्ति के इस उत्सव में विशेष रूप से बोलेंगी। ‘आजादी के अमृत महोत्सव’ की कड़ी में केंद्रीय संस्कृति मंत्रालय और साहित्य अकादमी के संयुक्त तत्वावधान में होने जा रहे इस उत्सव में विभिन्न कार्यक्रमों की रूपरेखा मंगलवार को तय की गई।

16 से 18 जून तक होने वाले इस उत्सव की शुरुआत गेयटी थियेटर शिमला के मुख्य सभागार में होगी। 16 जून को 12 बजे पहला कार्यक्रम ‘साहित्य और स्त्री सशक्तीकरण विषय’ पर होगा। 18 जून को 12:30 बजे से 1:30 बजे के बीच ‘भारतीय भाषाओं में महिला लेखन’ पर परिचर्चा होगी। इसकी अध्यक्षता जानी-मानी लेखिका मृदुला गर्ग करेंगी। इसमें संवादी बुकर अवार्डी लेखिका गीतांजलि श्री, जयश्री महंत और ममंग दई का संवाद होगा। इस उत्सव में देश-विदेश से करीब 450 साहित्यकार, लेखक और कलाकार भाग लेंगे।

ये 64 भाषाओं में अपनी रचनाओं का पाठ करेंगे। जाने-माने गीतकार गुलजार 16 जून को शाम 4:50 से 6:00 बजे के बीच ‘साहित्य और सिनेमा’ विषय पर परिचर्चा की अध्यक्षता करेंगे। 17 जून को गुलजार के साथ विशाल भारद्वाज की बातचीत भी आकर्षण का हिस्सा होगी।

Share:

editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *