एन ए आई ब्यूरो।

ऊना, स्कूल प्रवक्ता संघ की जिला इकाई ने प्रदेश सरकार के द्वारा लागू की गई छठे वेतन आयोग की सिफारिशों को त्रुटिपूर्ण करार दिया है। संघ के जिलाध्यक्ष संजीव पराशर का कहना है कि पंजाब सरकार द्वारा छठे  वेतन आयोग के अनुसार दो गुणांक दिए गए हैं, जिनमें 2.25 बढ़ाए गए ग्रेड पे के मामले में और पुराने ग्रेड पे के मामले में 2.59। उन्होंने कहा कि ये गुणांक कारक पंजाब पे स्केल में इंनिशियल वेतन पर लागू होते हैं, लेकिन न्यूनतम पे बैंड + ग्रेड पे पर नहीं। जबकि हिमाचल में इंनिशियल पे के स्थान पर केवल न्यूनतम पे बैंड और ग्रेड पे लागू किया गया है। संजीव पराशर का कहना है कि हिमाचल प्रदेश सरकार ने पंजाब पे कमीशन की रिपोर्ट को हिमाचल प्रदेश में मनमाने ढंग से लागू करने का प्रयास किया गया है, जिसके परिणामस्वरूप लाखों शिक्षकों और कर्मचारियों की वेतन वृद्धि पंजाब पे कमीशन की रिपोर्ट अनुसार कम हुई है। इसलिए पंजाब वेतन आयोग को सख्ती से लागू किया जाना चाहिए। पराशर ने कहा है कि जब हिमाचल प्रदेश पंजाब पे कमीशन का पालन कर रहा है तो एक बड़ा सवाल है कि हिमाचल सरकार अपने वेतनमान कैसे लागू कर सकता है | हिमाचल प्रदेश सरकार को भी छठे पंजाब पे कमीशन अनुसार पे स्केल हिमाचल में लागू कर उस पर दोनों गुणांक 2.59 और 2.25 के साथ ही 15% वेतन वृद्धि का विकल्प भी देना चाहिए। इसलिए हिमाचल प्रदेश प्रवक्ता संघ मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से आग्रह करता है कि हिमाचल प्रदेश के शिक्षकों और कर्मचारियों की पूर्व की भांति पंजाब पे कमीशन की रिपोर्ट अनुसार वेतनमान दिए जाए।

Share:

editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *