एन ए आई, ब्यूरो।

शिमला, हिमाचल की राजधानी शिमला में आवारा कुत्तों के हमलों के मामले आए दिन देखने को मिल रहे हैं। विकासनगर में 7 साल की मासूम को एक कुत्ते ने अचानक दांत मार दिया जिसके बाद उसे हॉस्पिटल ले जाया गया। 7 साल की अंजना जब गली में खेल रही थी तो अचानक से कुत्ते ने पीछे से आकर उसे काट लिया और भाग गया। कुछ दूरी पर ही अंजना के माता पिता मौजूद थे जो बिना किसी देरी के उसे हॉस्पिटल लेकर गए। इस प्रकरण के बाद माता पिता ने निगम प्रशासन के प्रति अपना रोष प्रकट किया।

माता पिता प्रशासन से मुआवजे की भी मांग कर रहे हैं। शिमला के हर वार्ड से डॉग बाइट की खबरें आ रही है जिससे स्थानीय लोगों में दहशत का माहौल है। कुत्ते अपना शिकार छोटे बच्चे और महिलाओं को ज़्यादा बना रहे हैं।

विकास नगर वार्ड की पूर्व पार्षद रचना भारद्वाज ने कहा कि वार्ड में पहले इतने आवारा कुत्ते नहीं थे। निगम प्रशासन नसबंदी तो कर रहा है लेकिन कुत्तों की संख्या घटने की जगह और ज़्यादा बढ रही है। कहा कि आवारा कुत्तों की बाइट के मामले इससे पहले भी विकासनगर में आए जिस बारे निगम प्रशासन को अवगत कराया था और इन कुत्तों को यहां से हटाने की मांग की थी। कुछ दिनों पहले ही नगर निगम एक कुत्ते को यहां से लेकर भी गई थी जो पागल था। हालांकि उसके सम्पर्क में आए दूसरे कुत्तों को निगम प्रशासन ने कुछ दिन निगरानी में रखने के बाद उन्हें सामान्य बताया।

उन्होंने कहा कि आवारा कुत्तों का झुंड रोजाना वार्ड में घूमता रहता है जिस वजह से घर से अकेले बाहर निकलना मुश्किल हो गया है। कहा कि सबसे ज़्यादा कुत्ते काली माता मन्दिर और पुलिस चौकी के पास होते हैं और अचानक हमला कर देते हैं जिस वजह से लोग डरकर अपने घर से बाहर निकलते हैं। कहा कि निगम प्रशासन से कई दफा इस बारे में शिकायत भी की लेकिन नगर निगम यह कहकर पल्ला झाड़ देता है कि कोर्ट के आदेश के मुताबिक पागल कुत्ते को ही ले जाया जा सकता है।

Share:

editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *