एन ए आई, ब्यूरो।

रामपुर, मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज शिमला जिला के रामपुर में हेलीपोर्ट का उद्घाटन किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने पर्यटकों को प्रदेश के अनछुए गंतव्य स्थलों की ओर आकर्षित करने के लिए अनेक पहल कीं हैं। राज्य में पर्यटन को प्रोत्साहन प्रदान करने तथा हवाई सेवाओं में सुधार के लिए राज्य सरकार प्रतिबद्ध है।

जय राम ठाकुर ने कहा कि उड़ान (उड़े देश का आम नागरिक) योजना के अन्तर्गत हेलीकॉप्टर सेवाएं प्रदान करने के लिए प्रदेश में नए हेलीपोर्ट विकसित किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश में राजधानी शिमला में संजौली बाइपास सड़क के निकट, सोलन जिला के बद्दी और रामपुर में भी हेलीपोर्ट सेवा संचालन के लिए तैयार हैं। इसके अतिरिक्त मंडी जिला के कंागणीधार हेलीपोर्ट का कार्य शीघ्र पूर्ण होने वाला है और मनाली (डीजीआरई, सासे) में एक अन्य हेलीपोर्ट विकसित किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि जिला शिमला के रामपुर में नव निर्मित हेलीपोर्ट भारत सरकार की उड़ान योजना के अन्तर्गत विकसित पांच हेलीपोर्ट में से दूसरा है। उन्होंने कहा कि यह हेलीपोर्ट 3.40 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित किया गया है और इसके लिए 7.38 करोड़ रुपये की प्रशासनिक व व्यय स्वीकृति और तकनीकी स्वीकृति प्राप्त है जिसमें विकास निर्माण लागत और सभी उपकरण और फायर टेंडर्स की खरीद शामिल हैं जिसे मैसर्स पवन हंस लिमिटेड द्वारा पूर्ण किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि भारत सरकार के नागरिक विमानन मंत्रालय ने आरसीएस (रीजनल कनैक्टिविटी स्कीम) उड़ान-दो के अन्तर्गत स्वीकृत 12,130 वर्गमीटर के क्षेत्र में फैले रामपुर हेलीपोर्ट का कार्य वर्ष 2020 में शुरू किया गया था और अगस्त, 2022 में रिकॉर्ड समय में इसका कार्य पूर्ण कर लिया गया। उन्होंने कहा कि इस हेलीपोर्ट में सीसीटीवी, वीआईपी लॉंज, पार्किंग, ओपीएस और फायर स्टेशन, सिक्योरिटी हट, यूजी टैंक, वाच टॉवर, पेरीमीटर फेंसिंग इल्यूमिनेशन रिसेप्शन काउंटर, हेलीपोर्ट मैनेजर ऑफिस, टिकट काउंटर इत्यादि अत्याधुनिक सुविधाएं उपलब्ध हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि शिमला-रामपुर-शिमला रूट पर दिसंबर 2021 में उड़ान सेवा शुरू की गई थी और सप्ताह में तीन बार उड़ानें संचालित की जा रही थीं। उन्होंने कहा कि इस रूट पर एक ओर का किराया प्रति यात्री 3275 रुपये है।

जय राम ठाकुर ने कहा कि राज्य सरकार ने हाल ही में नागरिक उड्डयन मंत्रालय, भारत सरकार को जिला किन्नौर के रिकांग पिओ और जिला चंबा के दुर्गम क्षेत्रों को उड़ान योजना के तहत जोड़कर वहां तक हेलीकॉप्टर सेवा विस्तार के लिए प्रस्ताव भेजा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में इस समय 64 हेलीपैड हैं और राज्य सरकार द्वारा 38 नये हेलीपैड विकसित किये जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि हेलीपोर्ट और हेलीपैड भविष्य में पर्यटन, संपर्क और आपातकालीन स्थितियों में लाभदायक साबित होंगे। उन्होंने कहा कि राज्य में हेलीपोर्ट के विकास से पर्यटकों के अलावा स्थानीय लोगों को भी सुविधा होगी और चिकित्सा से सम्बंधित आपातकालीन स्थितियों में भी इनका बेहतर उपयोग किया जा सकेगा। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने पर्यटन और नागरिक उड्डयन क्षेत्र को सर्वाेच्च प्राथमिकता प्रदान की है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में प्रमुख पर्यटन स्थलों को हवाई संपर्क मार्ग से जोड़ने पर अधिक बल दिया जा रहा है।

जय राम ठाकुर ने कहा कि इसके अतिरिक्त, दिल्ली-शिमला-दिल्ली मार्ग पर हवाई उड़ानें बहाल की जा रही हैं और एलायंस एयर ने हवाई मार्ग के लिए एक नया विमान एटीआर-42-600 उपलब्ध करवाया है। उन्होंने कहा कि इस साल सितम्बर माह में कुल्लू और धर्मशाला के लिए भी उड़ानें आरम्भ की जाएंगी।

इस अवसर पर शहरी विकास मंत्री सुरेश भारद्वाज, हिमको फेडरेशन के अध्यक्ष कौल नेगी, पूर्व विधायक सिंघी राम, राज्य वन विकास निगम के उपाध्यक्ष सूरत नेगी और हिमाचल प्रदेश पर्यटन विकास निगम के प्रबंध निदेशक अमित कश्यप और अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

Share:

editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *