एन ए आई ब्यूरो।

मंडी, परियोजना के निर्माण पर व्यय होंगे 50 करोड़ रुपये

मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज मंडी जिला में माता बगलामुखी मन्दिर के लिए बनने वाले 800 मीटर लम्बे बगलामुखी रोपवे की आधारशिला रखी। यह रोपवे राज्य का पहला रोपवे है, जिसका निर्माण ग्रामीण क्षेत्रों को रोपवे से जोड़ने के लिए भारत सरकार द्वारा स्वीकृति मिलने के बाद नाबार्ड के वित्तपोषण से किया जा रहा है।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने बाखली में लोगांे को सम्बोधित करते हुए कहा कि इस रोपवे का निर्माण 50 करोड़ रुपये की लागत से एक वर्ष के भीतर किया जाएगा। उन्होंने कहा कि इस रोपवे का निर्माण मै. डोपेलमायर इण्डिया प्राईवेट लिमिटेड और बेकम इंफ्रा लिमिटेड द्वारा एरियल ट्राम वे-तकनीक और इंजीनियरिंग के सीईएन मानकों और निर्माण आधार पर किया जाएगा। उन्होंने कहा कि इस रोपवे के एक हिस्से का निर्माण द्रंग विधानसभा क्षेत्र और दूसरे हिस्से का निर्माण सिराज विधानसभा क्षेत्र में किया जाएगा। उन्होंने कहा कि पीपीपी आधार पर रोपवे परियोजनाओं के लिए केन्द्र व राज्य सरकार में 90ः10 के अनुपात की लागत वहन करने के लिए उच्चतर वीजीएफ प्राप्त करने का मामला केन्द्र सरकार के समक्ष उठाया गया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने केन्द्र को वित्तपोषण के लिए चार रोपवे भी नेशनल हाइवे लाॅजिस्टिक मेनेजमेंट लिमिटेड को भेजे हैं। उन्होंने कहा कि इनमें से चम्बा जिले के भरमौर से भरमाणी माता मन्दिर तक 120 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले रोपवे की डीपीआर तैयार कर ली गई है। उन्होंने कहा कि इसके अलावा कांगड़ा जिले में 605 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाला पालमपुर-थातरी-चैगान, जिला कुल्लू में 200 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाला बिजली महादेव और जिला सिरमौर के शिरगुल महादेव मन्दिर से चूड़धार तक रोपवे शामिल हैं।

जय राम ठाकुर ने कहा कि द्रंग क्षेत्र के कांगे्रस नेता विकास के मामले में द्रंग के लोगों को गुमराह कर रहे है। उन्होंने कहा कि ऐसा लगता है कि कौल सिंह को वर्तमान सरकार द्वारा पिछले चार वर्षों के दौरान किए गए रिकाॅर्ड विकास कार्यों को लेकर भय हो गया है। उन्होंने कहा कि पर्यटकों और स्थानीय लोगों की सुविधा के लिए बाखली में बनने वाले ईको पार्क के कार्य को आगामी माह तक पूर्ण कर लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि 150 करोड़ रुपये लागत की शिवधाम परियोजना का पहले चरण का कार्य तेजी से चल रहा है, जो पूरा होने पर पर्यटकों और स्थानीय लोगों के लिए आकर्षण का केन्द्र होगा। उन्होंने कहा कि बाखली स्थित नेचर पार्क को दूसरे चरण में रोपवे से जोड़ने का प्रयास किया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि नई राहे नई मंजिले योजना के अन्तर्गत नए पर्यटन स्थलों का विकास किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि लारजी, पौंग डैम और कोल डैम को जलक्रीड़ा गंतव्य, बीड़ बिलिंग को साहसिक खेल गंतव्य और चांसल को शीतकालीन खेल गंतव्य के रूप में विकसित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि इसी प्रकार जिला मण्डी के जंजैहली क्षेत्र को ईको-पर्यटन गंतव्य के रूप में विकसित किया जा रहा है।

इससे पूर्व, मुख्यमंत्री ने मण्डी जिला के पण्डोह में इन्डस्ट्रियल इस्टेट पण्डोह प्रथम चरण का भूमि पूजन भी किया। उन्होंने कहा कि यहां लगभग 30-35 शैड बनाए जाएंगे, जिसमें मुख्य रूप से हथकरघा और फैशन डिजाइन को प्राथमिकता दी जाएगी। उन्होंने अधिकारियों को इन्डस्ट्रियल इस्टेट के दूसरे चरण के निर्माण के लिए साथ लगती 12 बीघा जमीन हस्तांतरित करने के निर्देश दिए।

जय राम ठाकुर ने कहा कि राज्य सरकार हिमाचल प्रदेश को देश का औद्योगिक हब बनाने के लिए प्रयासरत है। उन्होंने कहा कि 2019 में धर्मशाला में ग्लोबल इन्वेस्टर मीट का आयोजन किया गया था, जिसमें प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भाग लिया था। उन्होंने कहा कि हाल ही में प्रधानमंत्री की उपस्थिति में मण्डी में दूसरी ग्राउंड बे्रकिंग समारोह आयोजित किया गया, जिसमें 28,197 करोड़ रुपये के 287 समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर किए गए। उन्होंने कहा कि भारत सरकार ने नालागढ़ में बनने वाले लगभग 150 करोड़ रुपये की लागत के पहले मेडिकल डिवाइस पार्क को मंजूरी दी है। उन्होंने कहा कि इस पार्क के लिए भारत सरकार की ओर से 100 करोड़ रुपये का अनुदान उपलब्ध करवाया जाएगा। उन्होंने कहा कि इसमें लगभग 500 करोड़ रुपये का अनुमानित पूंजी निवेश होगा और लगभग 10 हजार लोगों को रोज़गार मिलेगा।

मुख्यमंत्री ने बान्दल में प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, सराची में आयुर्वेदिक औषधालय, बाखली में स्वास्थ्य उप-केन्द्र, तांदी में नया पटवार सर्कल, फंगैण में वन निरीक्षण कुटीर और राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला शामलीधार के नए भवन निर्माण की घोषणा की। उन्होंने राजकीय प्राथमिक पाठशाला बाड़ी कोचरा को राजकीय माध्यमिक पाठशाला, राजकीय प्राथमिक पाठशाला काण्डीटिली को राजकीय माध्यमिक पाठशाला, राजकीय माध्यमिक पाठशला कलणी को राजकीय उच्च पाठशाला, समपूर और दारल में प्राथमिक पाठशाला खोलने, राजकीय प्राथमिक पाठशाला मझाण को राजकीय माध्यमिक पाठशाला में स्तरोन्नत करने की भी घोषणा की। उन्होंने प्राथमिक पाठशाला बाखली में दो अतिरिक्त कमरों का निर्माण करने की भी घोषणा की।

इस अवसर पर भारत रत्न लता मंगेशकर की स्मृति में दो मिनट का मौन भी रखा गया, जिनका आज मुम्बई में निधन हो गया।

मुख्यमंत्री ने तवारफी में सीसीटीवी निगरानी के अन्तर्गत लाए गए राज्य के पहले माध्यमिक विद्यालय परिसर का दौरा किया और विद्यालय परिसर में पौधरोपण भी किया।

द्रंग के विधायक जवाहर ठाकुर ने मुख्यमंत्री का स्वागत किया और 2022 के विधानसभा चुनावों में एक बार फिर से राज्य में भाजपा की सरकार और जय राम ठाकुर को पुनः राज्य का मुख्यमंत्री बनाने के लिए लोगों से अपना पूरा समर्थन देने का आग्रह किया।

तांदी पंचायत की प्रधान अमरावती देवी ने अपनी पंचायत में मुख्यमंत्री का स्वागत किया और क्षेत्र की विभिन्न विकासात्मक मांगों को मुख्यमंत्री के समक्ष रखा।

मुख्यमंत्री की धर्मपत्नी और राज्य अस्पताल कल्याण समिति की अध्यक्षा डाॅ. साधना ठाकुर, मिल्कफेड के अध्यक्ष निहाल शर्मा, वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष मोहम्मद राजबली, जिला परिषद के अध्यक्ष पाल वर्मा, बाल कल्याण परिषद की महासचिव पायल वैद्य, सिराज भाजपा मण्डलाध्यक्ष भागीरथ शर्मा, प्रधान सचिव परिवहन आर.डी. नजीम, निदेशक रोपवे निगम अजय शर्मा, सीईओ मै. डोपेलमायर इण्डिया प्राइवेट लिमिटेड एण्ड बेकम इंफ्रा लिमिटेड प्रफुल चैधरी और अन्य गणमान्य व्यक्ति इस अवसर पर उपस्थित थे।

Share:

editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *