एन ए आई ब्यूरो।

मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज कांगड़ा जिला के धर्मशाला में 283.19 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित 17 विकासात्मक परियोजनाओं के लोकार्पण और शिलान्यास किए। इसमें 207 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित धर्मशाला स्काईवे भी शामिल है जिसका लोकार्पण मुख्यमंत्री ने आज सुबह किया।

जय राम ठाकुर ने 6.30 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित धौलाधार कनवेशन केंद्र, उपायुक्त कार्यालय धर्मशाला में 2.88 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित पार्किंग, 8.40 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित धौलाधार गार्डन, 6.50 करोड़ रुपये की लागत से अंघर महादेव मन्दिर परिसर में विकासात्मक कार्य, 97 लाख रुपये की लागत से विकसित बहुद्देशीय पार्क धर्मशाला, 10.50 करोड़ रुपये से चामुण्डा मन्दिर के जीर्णोधार कार्य, 4.63 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित आर्ट एंड क्राफ्ट सेन्टर रझियाणा, 3.60 करोड़ रुपये से बृजेश्वरी मंदिर परिसर में सुधार कार्य, 4.35 करोड़ रुपये से माता बाघ कांगड़ा में विकास कार्य और एडीबी के अन्तर्गत 14.34 करोड़ रुपये की लागत से ज्वालामुखी में निर्मित पार्किंग का लोकार्पण किया।

मुख्यमंत्री ने 3.58 करोड़ रुपये से निर्मित विलेज हार्ट कांगड़ा, दो करोड़ रुपये की लागत से निर्मित आरएफएसएल के टाईप-4 क्वाटर, धागवार में दो करोड़ रुपये की लागत से निर्मित मिल्कफेड के बिस्कुट प्लांट और 1.58 करोड़ रुपये से आरएफएसएल के डीएनए और साइबर कॉम्पलैक्स खंड का भी लोकार्पण किया।

जय राम ठाकुर ने 1.06 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित होने वाले आरएफएसएल के एडवांस इंस्टूमेंट लैब और 3.50 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित होने वाली हिमाचल प्रदेश राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड धर्मशाला की क्षेत्रीय प्रयोगशाला का शिलान्यास किया।

इस अवसर पर जनसभा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि शहर में पर्यटन को बढ़ावा देने में धर्मशाला मैकलोडगंज रोपवे मील का पत्थर साबित होगा। उन्हांने कहा कि महामारी के बावजूद इस रोपवे का निर्माण समयबद्ध पूर्ण किया गया। उन्होंने कहा कि यह परियोजना पर्यटकों के साथ अन्य यात्रियों को परिवहन की वैकल्पिक सुविधा उपलब्ध करवाने में सहायक सिद्ध होगी। इस रोपवे का निर्माण विश्व स्तरीय नवीनतम तकनीक से किया गया है। उन्होंने इस परियोजना के निष्पादकों को दैनिक यात्रियों के लिए पास उपलब्ध करवाने की एक प्रणाली विकसित करने के लिए भी कहा।

जय राम ठाकुर ने कहा कि प्रदेश सरकार नई राहें नई मंजिलें योजना के अन्तर्गत पर्यटन की दृष्टि से अनछुए स्थलों को विकसित करने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि शिमला जिले के चाशंल को स्कीइंग और शीतकालीन खेल गंतव्य स्थल, मंडी जिला के जंजैहली को इको-टूरिज्म स्थल, कांगड़ा जिले के बीड़ बिलिंग को साहसिक खेल स्थल और पौंग डैम को जलक्रीड़ा स्थल के रूप में विकसित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि यह परियोजनाएं पूर्ण होने पर विश्वभर से पर्यटकों को आकर्षित करेंगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार ने महामारी के दौरान राज्य में स्वास्थ्य अधोसंरचना को सुदृढ़ करने को सर्वोच्च प्राथमिकता प्रदान की है। उन्होंने कहा कि दो वर्ष पूर्व प्रदेश में केवल दो ऑक्सीजन संयंत्र थे जबकि आज 48 ऑक्सीजन संयंत्र मरीजों को बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान कर रहे हैं। हिमाचल प्रदेश पात्र आबादी के कोविड की पहली और दूसरी खुराक के टीकाकरण के शत-प्रतिशत लक्ष्य को हासिल करने वाला पहला राज्य और 15 से 18 आयु वर्ग के शत-प्रतिशत टीकाकरण के लक्ष्य को प्राप्त करने वाला भी देश का प्रथम राज्य बना है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कोविड-19 के मामलों में वृद्धि चिंता का विषय है। उन्होंने लोगों से कोविड अनुरूप व्यवहार अपनाने का आग्रह किया।

जय राम ठाकुर ने कहा कि मुख्यमंत्री हिमकेयर योजना के अन्तर्गत 5.13 लाख परिवार पंजीकृत हैं और 2.20 लाख परिवारों को लगभग 200 करोड़ रुपये का आर्थिक लाभ प्रदान किया गया है। उन्होंने कहा कि केंद्र की उज्ज्वला योजना और प्रदेश सरकार की गृहिणी सुविधा योजना के अन्तर्गत प्रदेश के 4.69 लाख से अधिक परिवारों को निःशुल्क गैस कनैक्शन प्रदान किए गए हैं। उन्होंने कहा कि हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वर्तमान प्रदेश सरकार के चार वर्ष का कार्यकाल पूर्ण होने पर मंडी में प्रदेशवासियों के लिए 11500 करोड़ रुपये की विकासात्मक परियोजनाओं के लोकार्पण और शिलान्यास किए।

मुख्यमंत्री ने राजस्व विभाग के पटवारियों को दक्षतापूर्ण कार्य सुनिश्चित करने के लिए लेपटाप भी वितरित किए।

सांसद किशन कपूर ने कहा कि भाजपा विकास का पर्याय है क्योंकि जब भी भाजपा सरकार सत्ता में आई है, राज्य ने सभी क्षेत्रों में अभूतपूर्व विकास किया है। उन्होंने कहा कि पूर्व राज्य सरकार ने अपने कार्यकाल के अंतिम दिनों में बिना किसी बजट प्रावधान के आधारशिलाएं रखी थीं। उन्होंने पूर्व राज्य सरकार पर चुनाव जीतने के लिए राज्य के लोगों को गुमराह करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि लगभग सभी सरकारी भवनों का निर्माण तत्कालीन भाजपा सरकारों के कार्यकाल में किया गया है। उन्होंने कहा कि राज्य के लिए विशेष औद्योगिक पैकेज पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी द्वारा प्रदान किया गया था, जिसका उद्देश्य राज्य में तेजी से औद्योगिकीकरण को बढ़ावा देना था। उन्होंने स्मार्ट सिटी परियोजना के अन्तर्गत धर्मशाला शहर और चंबा जिले को आकांक्षी जिला योजना के तहत लाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आभार व्यक्त किया।

इस अवसर पर धर्मशाला से विधायक विशाल नेहरिया ने मुख्यमंत्री एवं अन्य गणमान्य व्यक्तियों का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि कोविड-19 महामारी ने हमें इस आयोजन को छोटे स्तर पर आयोजित करने के लिए विवश किया है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री द्वारा आज लोकार्पित किए गए रज्जू मार्ग से क्षेत्र में पर्यटन को बढ़ावा देने के साथ मैकलोडगंज क्षेत्र में यातायात की भीड़ से राहत मिलेगी। उन्होंने कहा कि धर्मशाला शहर में 7000 स्मार्ट स्ट्रीट लाइटें लगाई जाएंगी। उन्होंने कहा कि शहर में पार्क और खेल मैदानों का निर्माण किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि धर्मशाला शहर राज्य का स्मार्ट सिटी बनने की ओर अग्रसर है। उन्होंने कहा कि धर्मशाला शहर में अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन केंद्र भी बन रहा है।

सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री सरवीन चौधरी, उद्योग मंत्री बिक्रम सिंह, सांसद इंदु गोस्वामी, राज्य योजना बोर्ड के उपाध्यक्ष रमेश चंद धवाला, विधायक बैजनाथ मुल्खराज प्रेमी, प्रदेश भाजपा महिला मोर्चा की अध्यक्ष रश्मि धर सूद, मिल्कफेड के अध्यक्ष निहाल चंद शर्मा, वूलफेड के अध्यक्ष त्रिलोक कपूर, जिला भाजपा अध्यक्ष चंद्रभूषण नाग, निदेशक पर्यटन अमित कश्यप, उपायुक्त डॉ. निपुण जिंदल और अन्य वरिष्ठ अधिकारी इस अवसर पर उपस्थित थे।

Share:

editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *