एन ए आई, ब्यूरो।

शिमला, हिमाचल प्रदेश में लंपी वायरस का संक्रमण काफी तेजी से बढ़ रहा हैं। प्रदेश में दो दिनों के अंदर लंपी वायरस के कारण 50 पशुओं की मौत हो चुकी हैं। शनिवार को जहां प्रदेश में लंपी वायरस से मरने वाले पशुओं की कुल संख्या 183 थी, तो वहीं अब लंपी वायरस से मरने वाले पशुओं की संख्या 233 पहुंच गई हैं। वहीं, 1500 से ज्यादा पशु लंपी वायरस के कारण संक्रमित हो चुके हैं। प्रदेश के आठ जिलों में लंपी वायरस का संक्रमण फैला चुका हैं। लाहुल-स्पीति, किन्नौर, कुल्लू और चंबा जिला में लंपी वायरस से कोई पशु संक्रमित नहीं हैं। हिमाचल में लंपी वायरस से पशुओं की हो रही मौतों का आंकड़ा हर दिन बढ़ता जा रहा है । प्रदेश में अब तक इस संक्रमण से 233 पशुओं की मौत हो चुकी है। प्रदेश के आठ जिलों में 12062 पशु इस संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं। पंजाब से सटे ऊना जिला में यह संक्रमण तेजी से अपने पैर पसार रहा है।

यहां पर अब तक सबसे ज्यादा 3546 पशु इस संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं। इस संक्रमण से मरने वाले पशुओं का आंकड़ा भी इसी जिला में सबसे ज्यादा है। यहां पर 82 पशु की मौत लंपी वायरस के कारण हो चुकी है। प्रदेश के अन्य जिलों में इस संक्रमण पर नजर दौड़ाई जाए, तो कांगड़ा में 2872 ,सिरमौर में 2675 ,शिमला में 486 सोलन में 1756, हमीरपुर में 166, बिलासपुर में 517, मंडी में 44 पशु संक्रमण की चपेट में है। इस संक्रमण से मरने वाले पशुओं के आंकड़ों पर यदि जिलावार नजर दौड़ाई जाए, तो सिरमौर में 69, शिमला में 36 सोलन में 28, बिलासपुर में 4 ,ऊना में 82 ,मंडी में दो और कांगड़ा में 17 पशु लंपी वायरस से अब तक मर चुके हैं।

Share:

editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *