एन ए आई, ब्यूरो।

परवाणू, हिमाचल में परवाणू के समीप टिंबर ट्रेल हादसे के बाद रोप-वे निगम प्रदेश के सभी 5 रोप-वे का सेफ्टी ऑडिट करेगा। इसमें टिंबर ट्रेल के अलावा जाखू, धर्मशाला, मनाली, नैना देवी रोप-वे शामिल हैं। ऑडिट के दौरान पर्यटकों के लिए रोप-वे कितने सुरक्षित हैं, इसकी बारीकी से जांच की जाएगी।

टिंबर ट्रेल हादसे के बाद प्रदेश में पहली बार हिमाचल के सभी 5 रोप-वे का सेफ्टी ऑडिट किया जा रहा है। रोप-वे निगम NDRF और PWD के मैकेनिकल विंग के साथ मिलकर सेफ्टी ऑडिट करेगा। इस काम के लिए विभाग विदेश से भी क्वालिटी एक्सपर्ट की सेवाएं लेगा। जो निगम के अधिकारियों की कमियों को बारीकी से तलाशने में मदद करेगा। निगम ने इसके लिए विदेशी कंपनियों से आवेदन मांगे हैं। कंपनियों को प्रपोजल देने को कहा है।

लोगों की सुरक्षा के लिए NDRF के साथ मिलकर रोप-वे की SOP भी तैयार की जा रही है। इसमें रोप-वे के गंडोला में यात्रियों के लिए खाने पीने की चीजों के अलावा लाइट, फर्स्ट एड बॉक्स, कम्युनिकेशन उपकरणों की व्यवस्था की जाएगी, ताकि इस तरह के हादसे होने पर यात्रियों के मनोबल को बढ़ाया जा सके और उनकी मदद की जा सके।

पर काम कर रहा है। इसमें बगलामुखी, नैना देवी, शिमला, रोहतांग में नए रोप-वे प्रोजेक्ट पर काम किया जाना है। लोगों की सुरक्षा को ध्यान में रखकर निगम जल्द रोप-वे पॉलिसी को भी लागू करने जा रहा है। निगम को सरकार से इसकी परमिशन मिल गई है। जिसका ड्राफ्ट रूल इन दिनों तैयार किया जा रहा है।

सरकार से मंजूरी मिलने के बाद रोप-वे निगम इसे जल्द जारी करेगा। रोप-वे निगम के निदेशक अजय शर्मा ने बताया कि निगम जल्द प्रदेश के सभी 5 रोप-वे का सेफ्टी ऑडिट करेगा और SOP भी जारी की जाएगी। इसके लिए निगम विदेशी एक्सपर्ट्स की भी सहायता लेगा।

Share:

editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *