एन ए आई ब्यूरो।

ऊना, प्रदेश सरकार द्वारा लागू की गई वेतन आयोग की सिफारिशों के खिलाफ पेन डाउन हड़ताल कर रहे चिकित्सकों का कहना है कि प्रदेश की सरकार ने इन सिफारिशों को लागू करते समय पंजाब पैटर्न को फॉलो करने की बात तो कही लेकिन उसे पूरी तरह से फॉलो नहीं किया है। जिसके चलते न केवल वर्तमान समय में सरकारी क्षेत्र में सेवाएं दे रहे चिकित्सक बल्कि आने वाले समय में विभाग के तहत भर्ती होने वाले युवा चिकित्सकों को भी काफी आर्थिक नुकसान झेलना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि इन सभी मांगों को लेकर चिकित्सकों की प्रदेश स्तरीय इकाई ने सरकार से वार्ता की थी लेकिन अभी तक इस मसले पर कोई हल निकलता दिखाई नहीं दे रहा। यही कारण है कि अब चिकित्सकों को इस मुद्दे पर हड़ताल करने पर विवश होना पड़ा है। उन्होंने कहा कि हड़ताल के बावजूद आपातकालीन सेवाओं को पूरी तरह से सुचारू रखा गया है ताकि किसी भी मरीज को बेहतर चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध कराई जा सके। चिकित्सकों ने सरकार से मांग की है कि हिमाचल प्रदेश की कठिन भौगोलिक परिस्थितियों में भी बेहतरीन सेवाएं देने वाले इस वर्ग के संबंध में लागू की जा रही सिफारिशों पर चिकित्सकों की मांगों का अवश्य ध्यान रखा जाए।

Share:

editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

AllEscort