एन ए आई ब्यूरो।

ऊना,शिवा परियोजना से लाभान्वित हुए बंगाणा उपमंडल के बौल निवासी किसान जगजीत सिंह का कहना है कि वह पहले हलवाई का काम करते थे, लेकिन कोरोना महामारी के चलते काम ठप हो गया।उन्हें जब शिवा प्रोजैक्ट के बारे में पता चला तो, बागवानी विभाग के अधिकारियों से संपर्क किया। परियोजना का लाभ लेते हुए विभागीय अधिकारियों की देखरेख में अपनी बंजर पड़ी लगभग 15 कनाल भूमि पर 550 अमरूद के पौधे लगवाए और बंजर पड़ी भूमि को खेती योग्य बनाया। बागवानी विभाग ने ही सोलर बाड़बंदी भी करवाई। उधर, नौकरी से सेवानिवृत कर्मचारी केहर सिंह कहते हैं कि बागवानी विभाग के सहयोग से अपनी बंजर पड़ी भूमि पर शिवा प्रोजैक्ट के तहत पौधे लगाए हैं। लगभग 5 कनाल भूमि पर ललिता और श्वेता दो किस्म के अमरूद के 380 पौधे लगाए गए हैं। बंजर पड़ी भूमि से पहले कोई आय नहीं थी, लेकिन अब शिवा प्रोजैक्ट में लगाए गए पौधों से अच्छी आमदनी होने की उम्मीद है।

वही मनरेगा के तहत काम कर रही भोला देवी और ज्योति का कहना है कि इस प्रोजेक्ट के तहत उन्हें घर द्वार के पास ही रोजगार के मौके मिल रहे हैं।

बागवानी विभाग के उपनिदेशक डॉ अशोक धीमान का कहना है कि एचपी शिवा प्रोजैक्ट के तहत कुटलैहड़ विस क्षेत्र के तहत अमरूद व अनार के 4-4 तथा माल्टा मौसमी का एक कलस्टर तैयार किया गया है। अमरूद में श्वेता व ललिता किस्म के पौधे लगाए गए हैं, जबकि टिशुकल्चर से तैयार किए गए पौधे भी रोपित किए गए हैं। इसके अलावा सिंचाई के ड्रिप सिस्टम का भी प्रावधान है, जिसमें आवश्यकता अनुसार पानी उपयोग में लाया जाता है और इससे पानी की बर्बादी भी कम होती है। प्रोजैक्ट के तहत किसानों को अपनी फसल बेचने में किसी प्रकार की दिक्कतों का सामना न करने पडे़ तथा मार्किट में अच्छे दाम मिलें। इसके लिए कुछ कंपनीज़ के साथ समझौता भी किया गया है।

Share:

editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *