एन ए आई ब्यूरो।

ऊना,भारत सरकार द्वारा किसानों की लागत को कम करने और पैदावार को बढ़ाने और इसके साथ-साथ पर्यावरण को सुरक्षित रखने के उद्देश्य की पूर्ति के लिए इंडियन फार्मर्स फर्टिलाइजर कोऑपरेटिव लिमिटेड द्वारा नैनो लिक्विड यूरिया को लॉन्च कर दिया गया है। इफ़को के डीजीएम वेदपाल ने ऊना में प्रेस वार्ता में इसका खुलासा करते हुए कहा कि इफको द्वारा देशभर में करीब 11000 केंद्रों पर पिछले 3 साल में लिक्विड नैनो यूरिया पर रिसर्च की गई है। जिसमें चौकानेवाले परिणाम सामने आने के बाद अब नैनो लिक्विड यूरिया को देशभर में प्रमोट करने के लिए कमर कस ली गई है। डीजीएम वेदपाल ने बताया कि यूरिया की एक बोरी का काम करीब आधा लिटर नैनो लिक्विड यूरिया बड़े आराम से कर रहा है। इसके साथ साथ परंपरागत यूरिया की अपेक्षा नैनो लिक्विड यूरिया पर्यावरण के लिए भी बेहद कम घातक हुआ है। डीजीएम ने बताया कि इससे पूर्व खेतों में छिडकाई जाने वाली यूरिया का केवल 40 फ़ीसदी हिस्सा ही फसलों को मिल पाता था। जबकि बाकी हिस्सा पानी, हवा या फिर मिट्टी में ही चला जाता था, जिससे पर्यावरण काफी गलत असर पड़ता रहा है। लेकिन नैनो लिक्विड यूरिया का पर्यावरण पर कोई असर नहीं रहेगा क्योंकि इसे घोल के रूप में पौधों पर छिड़काया जाएगा और इसका जमीन के साथ संपर्क बेहद कम रहेगा। इफको के डीजीएम वेदपाल ने कहा कि हिमाचल प्रदेश में लिक्विड नैनो यूरिया की प्रमोशन के दौरान किसानों के साथ गोष्ठियां आयोजित की जाएगी। ताकि उन्हें परंपरागत ऊर्जा की अपेक्षा लिक्विड नैनो यूरिया के इस्तेमाल से अवगत करवाते हुए इस ओर आकर्षित किया जा सके। उन्होंने कहा कि यूरिया का नैनो लिक्विड रूप में इस्तेमाल पर्यावरण पर भी किसी प्रकार का प्रतिकूल असर नहीं डालेगा।

Share:

editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *