एन ए आई, ब्यूरो।

ऊना, जिला ऊना के अंब उपमंडल मुख्यालय के प्रताप नगर में 5 अप्रैल को 15 साल की लड़की की दरिंदगी से की गई हत्या के विरोध में रविवार देर शाम विभिन्न संगठनों से जुड़े युवाओं ने जिला मुख्यालय पर कैंडल मार्च निकाला। इस दौरान युवाओं ने जोरदार नारेबाजी करते हुए किशोरी के हत्यारे को 15 दिन के भीतर फांसी के तख्ते पर लटकाने की मांग की।

प्रदर्शन कर रहे युवाओं ने कहा कि हिंदू या मुस्लिम का कोई भेद नहीं है दरिंदा किसी भी मजहब में पैदा हो सकता है। लेकिन ऐसे जघन्य अपराधियों पर लगाम कसने के लिए जरूरी है कि 15 वर्षीय बालिका के साथ इस जघन्य अपराध को अंजाम देने वाले को सार्वजनिक रूप से फांसी दी जाए। ताकि आइंदा कोई किसी की बहन या बेटी पर ऐसी नजर रखने से तौबा कर ले।

 

जिला मुख्यालय के ट्रक यूनियन से लेकर एमसी पार्क तक युवाओं ने रविवार शाम को कैंडल मार्च का आयोजन किया। उपमंडल मुख्यालय अंब के प्रताप नगर में 5 अप्रैल को 15 साल की किशोरी की निर्मम हत्या के विरोध में युवा सड़कों पर उतरे। युवाओं ने 2 मिनट का मौन रखकर दिवंगत किशोरी की आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की। कैंडल मार्च निकाल रहे युवाओं ने इस घटना को दरिंदगी की पराकाष्ठा करार दिया है।

साथ ही उन्होंने यह सवाल भी उठाया कि क्या अब बहन बेटियां अपने ही घरों में सुरक्षित नहीं हैं। उन्होंने कहा कि इस घटना से सबक लेते हुए जरूरी हो जाता है कि आने वाले समय में इस प्रकार के जघन्य अपराध पर लगाम कसने के लिए कुछ किया जाए। प्रदर्शन की अगुवाई कर रहे युवाओं ने मांग की है कि 15 वर्षीय किशोरी की हत्या के आरोपी को महीनों या सालों में नहीं अपितु दिनों में इस प्रकरण का फैसला करते हुए सार्वजनिक स्थल पर ले जाकर भरी जनता के बीच फांसी के तख्ते पर लटकाया जाए।

प्रदर्शनकारियों ने कहा कि इस घटना को हिंदू या मुस्लिम के फर्क से नहीं देखा जाना चाहिए। अपराधी को केवल मात्र एक अपराधी की नजर से देखते हुए सजा दी जानी चाहिए। गौरतलब है कि 5 अप्रैल 2021 को भी गगरेट उपमंडल के एक गांव में साधु वेश धारी युवक ने 21 वर्षीय युवती को मौत के घाट उतार कर जमीन में गाड़ दिया था। वहीं ठीक एक साल के बाद फिर से इस तरह की घटना की पुनरावृत्ति पर समाज के हर वर्ग में भारी रोष व्याप्त है।

 

Share:

editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *