एन ए आई ब्यूरो 

शिमला,

सयुंक्त किसान मंच के सयोंजक हरीश चौहान ने शिमला में पत्रकार वार्ता के दौरान कहा कि इस आंदोलन के दौरान अनेक तमगे किसानों को दिए गए लेकिन किसानों ने हार नही मानी। उन्होंने मोदी सरकार से सवाल किया है कि इस आंदोलन में 700 लोगों की शहादत को सरकार क्या पहले रोक नही सकती थी। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने संबोधन में कहा कि सरकार किसानों को समझ नही पाई लेकिन वास्तविकता में किसान तो पहले ही समझ गया था लेकिन प्रधानमंत्री नहीं समझ पाए थे। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री के समझने के बाद अब प्रदेश के मुख्यमंत्री की बारी है। उपचुनाव में चार सीट हारे हैं लेकिन 2022 के चुनाव सामने है। उन्होंने कहा कि किसानों ने 15 सूत्रीय मांगपत्र मुख्यमंत्री को सौंपा था लेकिन किसानों की मांग पर प्रदेश सरकार ने कोई ध्यान नही दिया है। उन्होंने कहा कि कश्मीर के तर्ज पर सेब MIS पर खरीदने की मांग लंबे समय से उठाई जा रही है। हरीश चौहान ने कहा कि वह भी भाजपा आरएसएस के संगठन से जुड़े हैं लेकिन वह शुरू से जानते थे कि यह कानून काले है।
वहीं उन्होंने कहा कि प्रदेश में किसानों को खाद की भारी कमी है। किसानों को कहीं भी खाद नही मिल रही जहां मिल रही है वहां महंगी है। उन्होंने कहा कि खाद पर सब्सिडी के सारे दावे हवा हो गए हैं सरकार को इस पर गौर करने की जरूरत है।
वहीं उन्होंने कहा कि भूमि अधिग्रहण में जो मुआवजा मिलता है वह दूसरे प्रदेशों की तुलना में काफी कम है। इसको लेकर सयुंक्त किसान मंच भूमि अधिग्रहण प्रभावित मंच के साथ मिलकर 14 दिसम्बर को विधानसभा के शीतकालीन सत्र का घेराव करेगी।

Share:

editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *