एन ए आई, ब्यूरो।

शिमला, कांग्रेस की राष्ट्रीय प्रवकता अल्का लांबा जो मात्र एक माह पूर्व हिमाचल की प्रभारी नियुक्त हुई है। वो जमीनी हकीकत से अवगत नहीं हैं वे न सिखाएं भाजपा को महिला कल्याण एवं उत्थान। राज्यसभा सांसद इंदु गोस्वामी ने अल्का लांबा पर पलटवार करते हुए कहा कि वो हिमाचल एक प्रभारी के नाते आई हैं । पर मुझे उन्हें एक नसीहत देनी है कि वे हिमाचल के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त कर लें। राजनैतिक लाभ लेने के लिए टिप्पणी करने से पहले वह प्रदेश में महिलाओं के लिए चल रही जन कल्याणकारी योजनाओं का विस्तृत अध्ययन करें।

माननीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के पदचिन्हों पर चलते हुए प्रदेश की जयराम सरकार ने आधी आबादी यानि महिलाओं को सबल बनाने के लिए असाधारण कार्य किया है।

प्रदेश की सरकार ने पिछले पांच वर्षों में न सिर्फ घरेलु स्तर पर अपितु शिक्षाए कायर्क्षेत्र में भी महिलाओं के जीवन को आसान बनाने का कायर् किया है। प्रदेश सरकार ने नारी शक्ति का सम्मान करते हुए विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं को चलाया जिनका मुख्य रूप आज प्रदेश की जनता भली भांति अवगत है।

अस्थायी तौर पर पैराशूट द्धारा उतारे गये कांग्रेस के तथाकथित पदाधिकारी अपने अनर्गन बयान जारी करने से पूर्व एक बार प्रदेश की जनता से जमीनी हकीकत जान लें।

प्रदेश की जयराम सरकार ने इस बात को भली भांति समझा कि महिलाओं का सशक्तिकरण किये बगैर किसी भी परिवार अथवा समाज का सशक्तिकरण संभव नहीं। इन पांच वर्षों के दौरान प्रदेश की जयराम सरकार ने गृहिणी से लेकर सरकारी अथवा निजि क्षेत्र में कायर्रत हमारी महिला शक्ति के उत्थान के लिए अभूतपूर्व कार्य किया है।

इंदु ने कहा जिस महिला को हिमाचल के मुख्यमंत्री का नाम व कान्फ्रेंस में अपने साथ बैठी महिला नेत्रियों का नाम तक नहीं पता था। वो सीएम जयराम ठाकुर को बार बार जयराम नरेश बोलती रही। उन से कांग्रेस को उम्मीद है कि वे  भडकाऊ टिप्पणीयां करके हिमाचल में चुनाव में मुख्य भूमिका निभाएंगी।

उन्होंने  अपनी कान्फ्रेंस के दौरान कहा कि हिमाचल की जनता ने भाजपा को जीरो नंबर दिए हैंए मैं कहना चाहुगीं कि वो भाजपा को नहीं कांग्रेस को दिए हैं। क्योंकि प्रदेश सरकार ने महिलाओं को साठ साल की उम्र में  सामाजिक सुरक्षा पेंशनए किराए में 50% छूट व महिला सशक्तीकरण योजनाएं शुरू की है। जबकि कंग्रेस ने 70 साल से महिलाओं का सिफर् शोषण किया है।

प्रदेश सरकार ने सीएम कन्यादान की राशि 31 से 51 हज़ार कीए शगुन योजना शुरू की 31000 रूपये ;बीपीएलद्धए गृहणी सुविधा उज्जवला योजना हर साल 3 निशुल्क सिलेंडरए मुख्यमंत्री स्वावलंबन योजना में 35  का अनुदान राशि का प्रदान की जा रही है।  बेटी है अनमोल के अंतगर्त 21000 रूपये की एफ डीए स्थानीय निकाय चुनाव में 50% आरक्षणए कामगार कल्याण बोर्ड , बेटी के जन्म पर 51000 रूपये की एफ डी व पढ़ाई के लिए भी अनुदान दिया जाता है।

Share:

editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *