एन ए आई ब्यूरो।

ऊना, उद्योग मंत्री विक्रम सिंह ठाकुर, आज देर शाम हरोली उपमंडल के बाथू स्थित अवैध पटाखा फैक्ट्री ब्लास्ट कांड के घटनास्थल का निरीक्षण करने पहुंचे। इस मौके पर वित्त आयोग के अध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती और एचपीएसआईडीसी उपाध्यक्ष प्रोफेसर रामकुमार विशेष रूप से घटनास्थल पर आए। इस दौरान डीसी और एसपी समेत तमाम प्रशासनिक और विभागीय अधिकारी भी मौके पर मौजूद रहे। उद्योग मंत्री ने इस मौके पर पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों के साथ-साथ संबंधित विभागों के अधिकारियों से भी पूछताछ की। इसके बाद उद्योग मंत्री ने क्षेत्रीय अस्पताल ऊना में पहुंचकर घायलों का कुशलक्षेम भी जाना। वहीँ उद्योग मंत्री ने जिला सचिवालय में अधिकारियों संग बैठक कर अधिकारियों को मामले की जांच में तेजी लाते हुए दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश दिए। उन्होंने इस घटना में जिंदा जलकर मरी महिलाओं के प्रति संवेदना व्यक्त की वहीं घटना में घायल हुए लोगों को उपचार में हर संभव सहायता उपलब्ध करवाने का भी भरोसा दिलाया। उन्होंने कहा कि मामले की जांच के लिए स्थानीय प्रशासन द्वारा की कमेटी का गठन किया गया है। इसी प्रकार की एक अन्य फैक्ट्री का भी इस औद्योगिक क्षेत्र में खुलासा हुआ है जिसे तुरंत प्रभाव से सील कर दिया गया है। उन्होंने इस अवैध फैक्ट्री को लेकर उद्योग विभाग पर चढ़े जा रहे आरोपों का जवाब देते हुए कहा कि उद्योग विभाग किसी को भी उद्योग लगाने के लिए फैसिलिटेट करता है जमीन दी जाती है अन्य सुविधाएं उपलब्ध कराई जाती है, लेकिन इस मामले में उद्योग विभाग का कहीं कोई रोल रहा ही नहीं है। उद्योग मंत्री विक्रम सिंह ठाकुर ने कहा कि इस तरह की घटनाओं को रोकने के लिए और ऐसे उद्योगों को क्रॉस चेक करने के लिए एक मैकेनिज्म की जरूरत है, जिसे बनाने के लिए जल्द ही उच्च स्तरीय बैठक होने जा रही है। उद्योग मंत्री विक्रम सिंह ठाकुर ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा इस कांड के पीड़ितों की मदद के लिए हाथ बढ़ाने पर आभार जताया। उन्होंने कहा कि इससे पूर्व इस स्थान पर जो उद्योग चल रहा था उन्होंने अपना उद्योग बंद करते हुए तमाम कनेक्शन कटवा दिए थे यही कारण है कि अवैध पटाखा फैक्ट्री में ना तो कोई बिजली का कनेक्शन था और न ही पानी का। यह उद्योग यहां कैसे स्थापित हुआ कौन लोग इसे संचालित कर रहे थे इसकी जांच के लिए जल्द ही कड़े कदम उठाए जा रहे हैं।

Share:

editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *