एन ए आई ब्यूरो।

ऊना, आईएसबीटी में कारोबार चलाने वाले दुकानदारों का कहना है कि कोविड-19 के कारण एक तरफ जहां कारोबार पूरी तरह से ठप हो रहा है, वहीं दूसरी तरफ उन्हें परिवार पालना तो दूर किराए तक निकालना असंभव होता जा रहा है। उन्होंने कहा कि हालत यह हो चुकी है कि कई दुकानदारों को अपने काम बंद करते हुए घरों में बैठने पर मजबूर होना पड़ा है। वही जो कारोबारी अभी तक जद्दोजहद कर रहे थे उनकी भी माली हालत बुरी तरह बिगड़ चुकी है। दुकानदारों का कहना है कि एक एक दुकान का भारी-भरकम किराया देना उनके लिए टेढ़ी खीर साबित हो रहा है। उन्होंने मांग की है कि आईएसबीटी प्रबंधन वर्ग को दुकानदारों की हालत का ख्याल करते हुए किराए में कमी करनी चाहिए। अन्यथा कारोबारियों के हाथ अब खड़े हो चुके हैं उन्हें दुकानें बंद करके जाने के अतिरिक्त और कोई दूसरा विकल्प दिखाई नहीं दे रहा।

वहीँ दूसरी तरफ आईएसबीटी का संचालन करने वाले एमआरसी ग्रुप के महाप्रबंधक प्रवेश शर्मा का कहना है कि आईएसबीटी प्रबंधन वर्ग के भी अब हाथ खड़े हो चुके हैं। उन्होंने कहा कि उनकी कंपनी एक नहीं बल्कि तीन-तीन बस स्टैंड का संचालन कर रही है और हर जगह कंपनी को घाटा ही उठाना पड़ रहा है। प्रवेश शर्मा ने कहा कि कोविड-19 के दौरान वर्ष 2020 में अप्रैल से अक्टूबर तक सभी कारोबारियों का किराया एकमुश्त माफ किया गया था और उसके बाद भी सभी दुकानदारों को किराये में भारी छूट दी गई थी। उन्होंने कहा कि  अब दुकानों का किराया माफ करना बिल्कुल भी संभव नहीं रह गया है। क्योंकि वो एचआरटीसी को लगातार इसका भुगतान कर रही है सरकार की तरफ से उन्हें कोई रियायत नहीं दी गई है।

Share:

editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

AllEscort